भूलेख बिहार | अपना खाता खसरा खतौनी, भूलेख खतौनी नकल ऑनलाइन देखें

बिहार के प्यारे निवासियों बिहार सरकार द्वारा Bihar Apna Khata Portal की शुरुआत की गई है इस पोर्टल के माध्यम से आप आसानी से भूलेख खसरा खतौनी, ऑनलाइन जमाबंदी नक़ल, भू-अभिलेखों तथा खतियान से सम्बंधित जानकारी प्राप्त कर सकते है। प्रदेश सरकार द्वारा ऑनलाइन पोर्टल http://lrc.bih.nic.in/  की शुरुआत को “भूमि सुधार विभाग” की अनूठी पहल के रूप में देखा जा रहा है। इस पोर्टल के माध्यम से सभी नागरिक अपनी जमीन से जुडी सभी जानकारिया घर बैठे हासिल कर सकते है।

भूलेख खसरा खतौनी

एक किसान के लिए उसकी कृषि भूमि से बड़ा कुछ नहीं होता इसलिए इसका नाम भू दिया गया है भू का अर्थ होता है पृथ्वी, दुनिया, संसार अर्थात किसान के लिए उसकी भूमि ही उसके लिए सबकुछ होती है। इसी को ध्यान में रखते हुए “राजस्व एवं भूमि सुधर विभाग” बिहार द्वारा भूलेख बिहार पोर्टल की शुरुआत की गयी है। भूलेख शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है भू+लेख , अर्थात जिसके अंतर्गत भूमि से जुड़े कार्य संपन्न होते हो। परिभाषा के अनुसार इस पोर्टल के माध्यम से आप खेत का नक्शा, खेत के कागजात,भूमि से जुड़े हुए सभी रिकार्ड ऑनलाइन माध्यम से घर बैठे प्राप्त कर सकते है।

भूलेख बिहार, खसरा खतौनी नक़ल | खतियान की विवरण ऑनलाइन

केंद्र व राज्य सरकारे डिजिटल भारत मिशन के अंतर्गत सभी प्रकियाएं ऑनलाइन कर रही है। इसके अंतर्गत भूमि से सम्बंधित रिकार्ड को ऑनलाइन किया जा रहा है। अब आप ऑनलाइन ही भूलेख बिहार, खसरा खतौनी व भूमि से जुड़े रिकार्ड ऑनलाइन देख सकते है आप भूलेख नक्शा जमाबंदी नक़ल ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते है। इस जानकारी के माध्यम से भूमि के मालिकाना हक़, क्षेत्रफल, तहसील, गांव व पट्टे की जानकारी प्राप्त कर सकते है।

बिहार अपना खाता, भूलेख बिहार पोर्टल की प्रमुख विशेषताएं

  • इस ऑनलाइन पोर्टल की मदद से राज्य का प्रत्येक नागरिक कभी भी किसी भी समय अपना जमा नंबर अथवा खसरा नंबर की सहायता से अपना भू नक्शा ऑनलाइन देख सकता है।
  • अब राज्य के किसानो को भू-अभिलेख, खसरा खतौनी की जानकारी हेतु सरकारी दफ्तरों {पटवारखानो} के चक्कर लगाने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • बिहार भू अभिलेख पोर्टल पर सभी अंशधारकों की जमींन का विवरण दर्ज किया गया है जिससे आप घर बैठे अपना भू नक्शा प्राप्त कर सकते है। इसके साथ ही इससे आपके समय की भी बचत होगी।
  • डिजिटल भारत मिशन के अंतर्गत सभी जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध होने के बाद पूर्ववर्ती पीढ़ियों के लोगो द्वारा किसी जमीन/संपत्ति पर की गई आपत्ति खारिज हो जाएगी।

Bihar Apna Khata | भूलेख खसरा खतौनी @lrc.bih.nic.in

अपना खाता पोर्टल की सहायता से खसरा खतौनी, ऑनलाइन देखने के लिए आपको दिए गए कुछ चरणों {स्टेप्स} का पालन करना होगा :-

स्टेप 1:- सबसे पहले आपको राजस्व और भूमि सुधार विभाग, बिहार सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।

भूलेख खसरा खतौनी

स्टेप 2:- आधिकारिक वेबसाइट {अपना खाता देखे} पोर्टल पर आपको अपने जिले का चयन करना होगा। इसके बाद एक नया पेज खुल जायेगा।

भूलेख खसरा खतौनी

स्टेप 3:- अगले पेज पर आपको अपने कस्बे {ब्लाक} का चयन करना होगा।

भूलेख खसरा खतौनी

स्टेप 4:- अब एक और नया पेज खुल जायेगा यहाँ आप कुछ विकल्पों के द्वारा “अपना खाता” देख सकते है।

भूलेख खसरा खतौनी
  • मौजा के समस्त खातों को नामानुसार देखें
  • मौजा के समस्त खातों को खसरा संख्या के अनुसार देखें
  • खाता संख्या से देखें
  • खेसरा संख्या से देखें
  • खाताधारी के नाम से देखें

स्टेप 5:- आप दिए गए विकल्पों का अपनी सुविधा के अनुसार चयन कर आसानी से खाता संख्या और खसरा संख्या की अनुसार अपना खाता देख सकते है।

Bihar Jamabandi Nakal | भू-नक्शा ऑनलाइन देखे

स्टेप 1:- ऑनलाइन दाखिल खारिज, भू नक्शा बिहार, जमाबंदी नक़ल देखने के लिए आपको सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट http://bhunaksha.bih.nic.in/bhunaksha/ पर जाना होगा।

भूलेख खसरा खतौनी

स्टेप 2:- वेबसाइट के होमपेज पर आपको अपने जिले, उप जिले, सर्किल तथा मोज़े का चयन करना होगा।

भूलेख खसरा खतौनी

स्टेप 3:- उपरोक्त चयन करने के बाद आप खसरा नंबर, रैयत का नाम, पिता के नाम की जानकारी के साथ भू नक्शा की जानकारी प्राप्त कर सकते है।

भूलेख खसरा खतौनी

बिहार अपना खाता हेल्पलाइन

कार्यालय का पता:– प्रमुख सचिव, राजस्व और भूमि सुधार विभाग, पुराना सचिवालय, बेली रोड, (800-005) पटना

टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर:– 1800-345-6215

ईमेल आईडी:– revenuebihar@gmail.com

इसके अतिरिक्त आप बिहार भूलेख पोर्टल से जुडी अधिक जानकारी के लिए राजस्व और भूमि सुधार विभाग की आधिकारिक वेबसाइट से भी मदद प्राप्त कर सकते है।

जरूरी लिंक्स –

इसी प्रकार अन्य केंद्र तथा बिहार सरकार की योजनाओ की जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट www.indiascheme.com से जुड़े रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *