हरियाणा फसल विविधीकरण योजना एप्लीकेशन फॉर्म | लाभ, फसलों की सूची

Haryana Crop Diversification Scheme Apply | हरियाणा फसल विविधीकरण योजना रजिस्ट्रेशन फॉर्म | हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022|  हरियाणा फसल विविधीकरण योजना जिलेवार लाभार्थी सूचीi

हरियाणा सरकार द्वारा राज्य के किसानो को लाभ पहुंचने के लिए समय समय पर कल्याणी योजना शुरू कर उनके कृषि क्षेत्र को ब्बेहतर बनाने का प्रयास करती है इसी दिशा के हरयाणा सरकार द्वारा एक योजना को शुरू किया गया था जिसका नाम हरियाणा फसल विविधीकरण योजना था इस योजना के माध्यम से किसानो को धान की खेती छोड़ने पर प्रीति एकड़ के हिसाब से 7000 रुपए प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है किसान द्वारा जो अन्य फसल की खेती करने पर अनुदान प्रदान किया जाता है राज्य सरकार मक्का की खेती करने वाले किसानो को ₹2400 प्रति एकड़ और दलहन (मूंग, उड़द, अरहर) की खेती करने वाले किसानो को ₹3600 प्रति एकड़ के हिसाब से अनुदान राशि प्रदान करती है हरियाणा सरकार द्वारा केवल 5 एकड़ तक ही किसानो को Haryana Crop Diversification Scheme के तहत अनुदान दिया जाता है राज्य सरकार द्वारा साल 2022 में यह टारगेट रखा गया है के 50 हज़ार एकड़ जमीन पर योजना को लागु किया जाएगा।

Haryana Crop Diversification Scheme 2022

हरियाणा राज्य के घटते भूजल को इस्थिर करने के लिए हरियाणा सरकार फसल विविधीकरण योजना को शुरू किया गया था। इस योजना के माध्यम से किसानो को धान की खेती छोड़ने पर प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है साथ ही अन्य फसलों की खेती करने पर जैसे-कपास, मक्का, दलहन, जवार, अरंडी, मूंगफली, सब्जी एवं फल आदि अनुदान राशि प्रदान की जाती है सरकार द्वारा प्रीति एकड़ के हिसाब से किसानो को 7000 रुपए की प्रोत्साहन प्रदान किया जाता है राज्य सरकार को Haryana Crop Diversification Scheme को शुरू करने का मुख्य कारण यह है की 1 किलो चावल उगाने में औसतन 300 लीटर पानी खपत होती है जो बहुत ज़्यादा खपत है इस समस्या को देखते हुए हरियाणा सरकार द्वारा इस योजना को शुरू किया गया ताकि आने वाले समय में पानी की कमी नहीं पढ़े और पानी को बचाया जा सके। 

Overview Haryana Crop Diversification Scheme 2022

योजना का नामहरियाणा फसल विविधीकरण योजना
शुरू की गईमुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी के द्वारा
साल2022
लाभार्थीराज्य के किसान
उद्देश्यभूजल स्तर को नियंत्रित करना एवं फसल विविधीकरण को बढ़ावा देना
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
ऑफिसियल वेबसाइटयहाँ क्लिक करे

Haryana Crop Diversification Scheme Last date of Registration

राज्य के जो इच्छुक किसान हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 के अंतर्गत आवेदन करना चाहते है उनको बतादे सरकार द्वारा 31 अगस्त सन 2022 समय सिमा तय की गयी है किसानो इस समय के अंदर ही आवेदन प्रस्तुत करना होगा। राज्य सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली धन राशि लाभ्यर्थी के बैंक खाते में ट्रांसफर की जाएगी। इसलिए लाभ्यर्थी किसान का बैंक खाता होना ज़रूरी है और आधार कार्ड से लिंक हो।

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 का मुख्य उद्देश्य क्या है

हरियाणा सरकार द्वारा Haryana Crop Diversification Scheme को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य में भूजल की बढ़ती समाया को देखते हुए उसपर रोकधाम करने के लिए किया है क्योंकि धान की खेती करने में अधिक मात्रा में पानी का उपयोग होता है जिसकी वजह से भूजल में गिरावट आरही है इस  समाया का समाधान करने के लिए राज्य के किसानो को धान की खेती के बदले अन्य फसलों की खेती करने पर प्रोत्साहन प्रदान किया जाता है जिसके माध्यम से राज्य में अन्य फसलप की खेती में वृद्धि होगी साथ ही भूजल की समस्या पर रोक लगेगी जो आने वाले समय के लिए अतियंत ज़रूरी है।

Haryana Crop Diversification Scheme Benefits and Features

  • हरियाणा सरकार द्वारा हरियाणा फसल विविधीकरण योजना को शुरू किया गया है
  • राज्य में पानी की बढ़ती समस्या को देखते हुए इस योजना की शुरुआत की गयी।
  • सरकार द्वारा राज्य के किसानो को धान की फसलों के बदले अन्य फसल की खेती करने पर इस योजना के तहत प्रीति एकड़ के हिसाब से 7000 रुपए प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है
  • राज्य सरकार मक्का की खेती करने वाले किसानो को ₹2400 प्रति एकड़ और दलहन (मूंग, उड़द, अरहर) की खेती करने वाले किसानो को ₹3600 प्रति एकड़ के हिसाब से अनुदान राशि प्रदान करती है
  • हरयाणा सरकार द्वारा केवल 5 एकड़ तक ही किसानो अनुदान राशि दी जाती है
  • राज्य सरकार द्वारा साल 2022 में यह टारगेट रखा गया है के 50 हज़ार एकड़ जमीन पर योजना को लागु किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य में जल की समस्या का समाधान करने के साथ किसानों की आय में वृद्धि करने में भी कारगर साबित होगी।
  • Haryana Crop Diversification Scheme के माध्यम से सरकार द्वारा किसानों को कृषि यंत्रों की खरीद पर भी अनुदान प्रदान किया जाएगा।

फसल विविधीकरण योजना की योग्यता

  • आवेदक हरियाणा राज्य का निवासी होना ज़रूरी है
  • किसान को अपने पिछले वर्ष की खेती वाले धान के कम से कम 50% हिस्से में विभिन फसलों की बुवाई करनी ज़रूरी है।
  • उमीदवार किसान का बैंक खाता होना चाहिए जो आधार कार्ड से लिंक हो।

ज़रूरी दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  •  निवास प्रमाण पत्र
  • कृषि योग्य भूमि के दस्तावेज
  • पहचान पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया जाने

  • आपको पहले कृषि एवं किसान कल्याण विभाग हरियाणा ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना है
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुलकर आएगा।
  • अब आपको वेबसाइट के होमपेज पर फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करे के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने पंजीकरण फॉर्म खुलकर आजाएगा
  • इस फॉर्म में आपसे मालूम की गयी सभी जानकारी को दर्ज करना होगा। साथ ही अगले भाग में किसान को अपनी सभी जानकारी दर्ज करनी है।
  • अब आपको भूमि से संबंधित जानकारी दर्ज करनी होगी
  • फिर इसके बाद आपको फसल की जानकारी दर्ज करनी होगी
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद अंत में आपको सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा
  • इस तरह से आपका सफलतापूर्वक पंजीकरण होजाएगा।

Leave a Comment