राजस्थान इंदिरा रसोई योजना 2020: गरीबों के लिए दो वक्त का खाना और नाश्ता

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा 100 करोड़ के बजट के साथ इंदिरा रसोई योजना (Indira Rasoi Yojana) की शुरुआत की घोषणा की है। राजस्थान के ऐसे नागरिक जो दिन में अपना पेट भी नहीं भर पाते या ऐसे लोग जो मजदूरी करने के लिए राज्य के शहर में रहते हैं और अपने खाने की व्यवस्था नहीं कर पाते हैं, तो ऐसे  नागरिकों के लिए राजस्थान सरकार ने इस योजना की  शुरुआत की है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरू की गयी इस योजना के तहत राज्य के गरीब या निर्धन नागरिकों को काम दाम में पौष्टिक भोजन प्रदान करने की व्यवस्था   की है। राजस्थान सरकार द्वारा इंदिरा रसोई योजना 2020 पर प्रति वर्ष 100 करोड़ रूपये खर्च  करने का एलान किया है। आज हम आपको इस योजना की पूरी जानकारी प्रदान करने वाले है तो हमारे इस लेख के साथ अंत तक बने रहें।

इंदिरा रसोई योजना क्या है?

हम जानते हैं कि राजस्थान में पहले अन्नपूर्णा रसोई योजना चलायी जा रही थी इस योजना का नाम बदल कर ही इंदिरा रसोई योजना 2020 के नाम से इस योजना की शुरुआत राज्य सरकार ने की है। क्योंकि अब इस योजना को नए सिरे से शुरू किया जा रहा है तो इस योजना में कुछ अहम् बदलाव भी किये जायेंगे। जिससे कि इस योजना को पहले से ज्यादा बेहतर बनाया जा सके।

इंदिरा रसोई योजना

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी द्वारा शुरू की जायगी इस राजस्थान इंदिरा रसोई योजना (Indira Rasoi Yojana) माध्यम से गरीब और निर्धन लोगों को महज 5-10 रूपये में ही भोजन प्रदान किया जायेगा। परन्तु यह योजना अन्नपूर्ण रसोई योजना से काफी अलग होने वाली है। योजना के तहत वैन या किसी वाहन के माध्यम से भोजन नहीं दिया जायेगा, बल्कि यहाँ लोगो के बैठने की भी व्यवस्था भी की जाएगी।

Overview Of Indira Rasoi Yojana

योजना का नामराजस्थान इंदिरा रसोई योजना
आरम्भ की तिथि26 जून 2020
आरम्भ की गईमुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा
लाभार्थीआर्थिक रूप से कमजोर लोग
उद्देश्यमजदूरों के लिए खाने की व्यवस्था करना
लाभमजदूरों को पेट भरने के लिए भोजन
श्रेणीराजस्थान सरकारी योजनाएं

राजस्थान इंदिरा रसोई योजना का उद्देश्य

हम जानते हैं कि देश में प्रतिवर्ष भुखमरी के कारण पाता नहीं कितने लोगों की मृत्यु हो जाती है, ऐसा ही हाल कुछ राजस्थान राज्य का भी है। यहाँ भी भुखमरी के कारण बहुत लोगों की मृत्यु  हो जाती है। राजस्थान में यदि नागरिकों के पास रोजगार नहीं होता है तो अधिकतम लोगो को भूख से हुई उत्पन्न परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत जी ने इसी भूख मरी जैसी परेशानियों को देखते हुए इस इंदिरा रसोई योजना 2020 में काफी बदलाव किये हैं। जिसके कारण लोगो को 2 वक्त का भोजन काम दामों पर बैठा कर प्रदान किया जायेगा। राज्य सरकार द्वारा इंदिरा रसोई योजना 2020 का उद्देश्य राजस्थान के गरीब लोगों को काम दाम में पौष्टिक भोजन प्रदान करना है।

Benefits Of Indira Rasoi Yojana

  • इस योजना के माध्यम से राज्य के लोगों को सस्ते दामों पर भोजन प्रदान किया जायेगा।
  • लोगो को भोजन करने के लिए सिर्फ 8 रूपये का खर्च करना होगा।
  • इस योजना के तहत भोजन की लागत 20 रूपये बताई जा रही है जिसमे 12 रूपये का खर्च राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा।
  • अब लोगो को खड़े हो कर खाने की जरुरत नहीं होगी, क्योकि इस बार बैठ कर खाने की भी व्यवस्था की गयी है।
  • राज्य में दिन के 100 रूपये कमाने वाले लोग भी केवल 16 रूपये 2 वक्त का खाना  खा सकते हैं।
  • राज्य में भोजन ना मिल पाने की वजह से होने वाली मृत्यु दर में कमी आएगी।

इंदिरा रसोई योजना से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें

  • इस योजना के तहत अन्न पूर्णा योजना की तरह ही इंदिरा रसोई के संचालन की ज़िम्मेदारी किसी एक संस्था को नहीं दि जाने वाली है, बल्कि इस योजना को स्वंय सेंवियों के माध्यम से चलाया जायेगा।
  • योजना में किसी भी तरह की कोई धांधली ना हो सके इसके लिए सबसे पहले जिला स्तर पर योजना की जिम्मेदारी जिला कलेक्टर की होगी।
  • राजस्थान इंदिरा रसोई योजना को विभिन्न एनजीओ को हर जिले और निकायवार से जोड़ा जाने की तयारी की है।
  • अब वैन की जगह स्थाई  रसोई में ही भोजन परोसने की व्यवस्था किये जाने का प्रावधान किया गया है, जिससे कि लोग वही आराम से बैठकर भोजन कर सकें।
  • इंदिरा रसोई योजना 2020 (Indira Rasoi Yojana) के लिए जिले वार बजट आवंटित  किया जायेगा।
  • इस योजना के तहत  नगर पालिका क्षेत्र में 2 रसोई होंगी। वही नगर परिषद क्षेत्र में  5 रसोई व्यवस्था की जाएगी, और नगर निगम के क्षेत्र में सबसे अधिक 8 रसोईयों की व्यवस्था की जाएगी।
  • रसोई का काम सरकारी भवन,एनजीओ में किया जायेगा, जिससे की एक समय में कई लोग भोजन कर सकें।
  • इस योजना का संचालन चेन्नई में चल रही अम्मा की रसोई की तरह ही किया जायेगा।
  • इंदिरा रसोई चेन्नई में चल रही अम्मा की रसोई की तरह काम करे इसके लिए आईएस अफसरों का दल चेन्नई के लिए रवाना हो चुका है।
  • हर व्यक्ति के भोजन बनाने में 20 रूपए का खर्च आएगा, जिसमे से 12 रूपए का वहन राज्य सरकार द्वारा किया जायेगा। बाकि 8 रूपये का भुगतान भोजन करने व्यक्ति को करना होगा।

यह भी पढ़े – पीएम श्रमिक सेतु पोर्टल 2020: PM Shramik App डाउनलोड करे

हम उम्मीद करते हैं की आपको इंदिरा रसोई योजना 2020 से सम्बंधित जानकारी जरूर लाभदायक लगी होंगी। इस लेख में हमने आपके द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालो के जवाब देने की कोशिश की है।

यदि अभी भी आपके पास इस योजना से सम्बंधित सवाल है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। इसके साथ ही आप हमारी वेबसाइट को बुकमार्क भी कर सकते हैं।

पूछे गए प्रश्नों के उत्तर

इंदिरा रसोई योजना के क्या लाभ होंगे?

इस योजना के माध्यम से गरीब बेसहारा लोगों को दो वक्त का नाश्ता और खाना उपलब्ध कराया जाएगा।

राजस्थान सरकार द्वारा इस योजना के लिए कितना खर्च किया जाएगा?

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरू की गई इस योजना पर प्रतिवर्ष 100 करोड रुपए खर्च किए जाएंगे।

इंदिरा रसोई योजना के तहत प्रति व्यक्ति थाली पर कितना खर्च आएगा?

इस योजना में प्रति व्यक्ति थाली पर ₹20 का खर्च आएगा जिसमें से ₹12 राज्य सरकार द्वारा जबकि ₹8 भोजन करने वाले व्यक्ति को चुकाने होंगे।

Leave a Comment