मिशन कर्मयोगी योजना 2021: (NPCSCB) Mission Karmayogi लक्ष्य व लाभ

मिशन कर्मयोगी योजना, Mission Karmayogi Yojana NPCSCB Benefits, मिशन कर्मयोगी लक्ष्य, उद्देश्य व लाभों की जानकारी आपको इस लेख में दी जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 2 सितंबर 2020 केबिनेट द्वारा मिशन कर्मयोगी योजना को मंजूरी दी गयी है। इस योजना के तहत सिविल सेवा अधिकारियो की क्षमता बढ़ाने का लिए कार्य किया जायेगा। कर्मयोगी योजना के माध्यम से सिविल सेवको को और भी अधिक रचनात्मक, सृजनात्मक, विचारशील, नवाचारी, क्रियाशील, प्रगतिशील, ऊर्जावान, सक्षम, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी से संपन्न बनाने के लिए तैयार करना है।

इस स्कीम के माध्यम से कार्य संस्कृति में परिवर्तन को व्यवस्थित रूप में जोड़कर, सार्वजनिक संस्थानों का सुदृढ़ीकरण और सिविल सेवको की क्षमता के निर्माण के लिये आधुनिक प्रौद्योगिकी को अपनाकर सिविल सेवा क्षमता में रूपांतरणकारी परिवर्तन करना है जिससे की नागरिको को प्रभावकारी रूप से सेवाएं मुहैया कराई जा सके। यहाँ इस लेख में हम आपको मिशन कर्मियों की योजना क्या है?, इसके लाभ, उद्देश्य, विशेषताओं तथा संस्थागत ढांचा, iGOT कर्मयोगी मंच की सम्भि महत्वूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएँगे।

मिशन कर्मयोगी योजना क्या है?

केंद्र सरकार द्वारा सरकारी कर्मचारियों के स्किल डेवलोपमेन्ट तथा नागरिको तक सिविल सेवको की बेहतर सेवाएं पहुंचाने के लिए Mission Karmayogi Yojana को शुरू किया गया है। इस योजना के अंतर्गत सिविल सेवको को ऑनलाइन कंटेंट के माध्यम से स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी। इसके साथ ही ऑन द साइड ट्रेनिंग पर भी अधिक ध्यान दिया जायेगा। मिशन कर्मयोगी योजना मुख्य रूप से एक कौशल कार्यक्रम है जिसके अंतर्गत सरकारी अधिकारियों की काम करने की शैली में भी सुधार आएगा।

Mission Karmayogi

इस योजना के कार्यान्वयन के बाद सिविल सेवको की नियुक्ति के बाद उनकी क्षमता को बढ़ाने के लिए ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी। इन कौशल प्रशिक्षण के बाद अधिकारियो का प्रदर्शन बेहतर हो पायेगा। Mission Karmayogi Yojana 2021 को पूरी तरह से केबिनेट की देख-रेख में चलाया जायेगा जिसकी अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की जाएगी। इस योजना के कार्यान्वयन के लिए इसमें एचआर परिषद, चयनित केंद्रीय मंत्री तथा राज्यों के मुख्यमंत्रियों को शामिल किया जायेगा।

Highlights of Mission Karmayogi Yojana

योजना का नाममिशन कर्मयोगी योजना
आरम्भ की गईप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में
लाभार्थीसिविल सेवक
स्किल ट्रेनिंग की सुविधाऑनलाइन
उद्देश्यसिविल सेवकों के लिए स्किल ट्रेनिंग
लाभकौशल का विकास
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजनाएं
आइगोट आधिकारिक वेबसाइटजल्द ही

पीएम मोदी का मिशन कर्मयोगी प्लान

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने जानकरी देते हुए कहा की वर्ष 2017 के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मसूरी के सिविल सर्विस अधिकारियों के ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट गए थे, उस समय पीएम मोदी के द्वारा सरकारी अफसरों की ट्रेनिंग पर व्यापक चर्चा की गयी थी। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी मिशन कर्मयोगी योजना के बारे में बात करते हुए कहा की भारतीय सिविल सेवको के कार्य सुधार उनके कल्पनाशील, सक्रिय, पेशेवर, प्रगतिशील, ऊर्जावान, सक्षम, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी-सक्षम बनाने के लिए मिशन कर्मयोगी सतत कार्य करेगा।

मिशन कर्मयोगी (NPCSCB) सिविल सेवा में किये गए बदलाव

इन योजना के तहत किसी भी वर्ष के सिविल सेवक कौशल प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए जुड़ सकते हैं। मिशन कर्मयोगी (NPCSCB) के तहत अधिकारियो को कार्य क्षमता और कैशल के विकास के लिए ऑनलाइन मोड में मोबाइल और लैपटॉप के माध्यम से ट्रेनिंग दी जाएगी। इस कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम में विभिन्न विभागों के टॉप्स अधिकारियो को शामिल किया जाएगा इसमें सीखने के कांसेप्ट को और अधिक बेहतर बनाते हुए ऑनलाइन के साथ-साथ ऑनसाइट सीखने पर अधिक बल दिया जाएगा।

Objective of Mission Karmayogi Yojana 2021

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मिशन कर्मयोगी योजना की शुरुआत का मुख्य उद्देश्य सरकारी कर्मचारियों की क्षमता विकास को ध्यान में रखकर नागरिकों तक अधिक बेहतर ढंग से सुविधाओं का लाभ पहुंचाना है। केंद्र सरकार द्वारा आने वाले समय में इस योजना में अनेकों संशोधन किया जाएंगे जिसमे कर्मचारियों को ऑन साइड ट्रेनिंग तथा ई लर्निंग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इसके माध्यम से सरकारी कमर्चारियों की कार्यक्षमता को अधिक बेहतर ढंग से बढ़ाया का सकेगा।

मिशन कर्मयोगी योजना का कार्यान्वयन

हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 2 सितंबर 2020 को केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी के बाद मिशन कर्मयोगी योजना को शुरू किया गया है। इस योजना के तहत विभिन्न विभागों के टॉप कलाकारों को शामिल करके सिविल सेवकों की क्षमता विकास के लिए अनेकों कार्य किए जाएंगे। इसी के साथ प्रधानमंत्री के सार्वजनिक मानव संसाधन परिषद, क्षमता निर्माण आयोग, ऑनलाइन परीक्षण के लिए स्पेशल परपज व्हीकल तथा कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता वाली सामान्य इकाइयों को भी शामिल किया जायेगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के अध्यक्षता में चयनित केंद्रीय मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों के साथ सार्वजनिक क्षेत्र के पेशावर मानव संसाधन विचार को वैश्विक विचारकों और लोक सेवा परिषद् के शीर्ष निकाय के तौर पर एक मानव संसाधन विकास परिषद कार्य करेगी, इसका कार्य सिविल सेवा सुधार कार्य और क्षमता विकास को कार्य नीति एक दिशा प्रदान करना होगा।

iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म

iGOT कर्मयोगी प्लेटफॉर्म के माध्यम से सिविल सेवको को डिजिटल लर्निंग सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी। इसके साथ ही इस प्लेटफार्म को ई लर्निंग सामग्री के लिए विश्व स्तरीय बाजार बनाने की दिशा में भी कार्य किया जायेगा। iGOT कर्मयोगी के माध्यम से ई लर्निंग कांटेक्ट उपलब्ध कराकर अधिकारियो और कर्मचारियों की क्षमता निर्माण के लिए कार्य किया जायेगा। इसी के साथ उन्हें डायरेक्ट स्किल ट्रेनिंग उपलब्ध कराकर उन्हें कई अन्य सुविधाएं भी प्रदान की जाएंगी।

मिशन कर्मयोगी योजना बजट

केंद्र सरकार की मिशन कर्मयोगी योजना के कार्यान्वयन के लिए  5 वर्षों की अवधि में 510.86 करोड रुपए किये जायेंगे जिसके द्वारा लगभग 46 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जायेगा। इस योजना के तहत एक स्वामित्व वाली विशेष प्रयोजन वाहन (special purpose vehicle) कंपनी का गठन किया जाएगा। यह कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के अंतर्गत कार्य करेगी। यह एक नॉन प्रॉफिटेबल ऑर्गेनाइजेशन होगी जो  iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म का स्वामित्व और प्रबंधन करेगी।

कर्मयोगी योजना मिशन के अंतर्गत किन कौशल को विकसित किया जाएगा

Mission Karmayogi Yojana 2021 में विशेष रूप से सरकारी कर्मचारियों के कौशल विकास पर ध्यान दिया जायेगा। इस योजना के तहत कर्मचारियों को निम्न कौशल प्रशिक्षण प्रदान किये जायेंगे जो इस प्रकार हैं –

  • प्रगतिशील
  • ऊर्जावान
  • सक्षम
  • क्रिएटिविटी
  • कल्पनाशीलता
  • इनोवेटिव
  • प्रोएक्टिव
  • पारदर्शी
  • तकनीकी तौर पर दक्ष आदि

iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म

  • डिप्लॉयमेंट
  • कार्य निर्धारण की सुचना
  • रिक्तियों की अधिसूचना
  • अन्य सेवा मायने रखती है
  • परिवीक्षा अवधि के बाद की पुष्टि

मिशन कर्मयोगी योजना के लाभ तथा विशेषताएं

  • केंद्र सरकार द्वारा मिशन कर्मयोगी योजना का आरंभ 2 सितंबर 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से सिविल सेवा अधिकारियो की क्षमता विकास के लिए ट्रेनिंग और ई लर्निंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।
  • Mission Karmayogi Yojana 2021 के दो मार्ग होंगे सर्व चलित तथा निर्देशित जिसमे अधिकारियो को ऑन द साइड ट्रेनिंग पर अधिक ध्यान दिया जाएगा।
  • इस योजना के कार्यान्वयन के बाद प्रणाली में पारदर्शिता आएगी तथा कार्य शैली में सुधार लाये जायेंगे।
  • मिशन कर्मयोगी में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ एक नई एचआर परिषद, चयनित केंद्रीय मंत्री तथा राज्यों के मुख्यमंत्रियों को शामिओ किया जायेगा।
  • iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म के माध्यम से कर्मचीरियो को डिजिटल ई लर्निंग कंटेंट उपलभ्द कराया जायेगा तथा इसे विश्व स्तरीय बाजार बनाने की दिशा में भी कार्य किया जायेगा।
  • केंद्र सरकार द्वारा इस योजना में अगले 5 वर्षों के लिए 510.86 करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया गया गया है जिससे लगभग 46 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जायेगा।
  • इस योजना के अंतर्गत एक स्वामित्व वाली विशेष परियोजना वाहन कंपनी का गठन किया जाएगा। जो iGOT कर्मयोगी की प्लेटफार्म का स्वामित्व और प्रावधान करेगी।

डिजिटल परिसंपत्तियों का स्वामित्व तथा परिचालन

  • कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 8 के अधीन के तहत NPCSCB के लिये पूर्ण स्वामित्व वाली नॉन प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन की स्थापना की जाएगी।
  • SPV एक ‘गैर-लाभ अर्जक’ कंपनी होगी जिसे iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म का स्वामित्व और प्रबंधन का कार्य करेगी। SPV विषय-वस्तु बाज़ार का निर्माण एवं संचालन तथा विषय-वस्तु वैधीकरण, स्वतंत्र निरीक्षण आकलन एवं टेलीमिट्री डेटा उपलब्धता से संबंधित आईगॉट-कर्मयोगी प्लेटफॉर्म की प्रमुख व्यावसायिक सेवाओं के प्रबंधन का भी कार्य करेगी।
  • आईगॉट– कर्मयोगी प्रमुख कार्य-निष्पादन संकेतकों का डैशबोर्ड अवलोकन सृजित करने के लिये प्लेटफार्म के सभी उपयोगकर्ताओं (यूज़र) के कार्य-निष्पादन मूल्यांकन हेतु एक समुचित निगरानी और मूल्यांकन रूपरेखा बनायीं जाएगी।

यह भी पढ़े – स्माम किसान योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म, पंजीकरण प्रक्रिया

हम उम्मीद करते हैं की आपको मिशन कर्मयोगी योजना से सम्बंधित जानकारी जरूर लाभदायक लगी होंगी। इस लेख में हमने आपके द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालो के जवाब देने की कोशिश की है।

यदि अभी भी आपके पास इस योजना से सम्बंधित सवाल है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। इसके साथ ही आप हमारी वेबसाइट को बुकमार्क भी कर सकते हैं।

Leave a Comment