UP गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण 2021: eproc.up.gov.in, ऑनलाइन ई-क्रय प्रणाली

ई-क्रय प्रणाली – उत्तर प्रदेश किसान पंजीकरण, UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण (ई उपार्जन) eproc.up.gov.in पोर्टल, ई-क्रय प्रणाली पोर्टल, यूपी गेहू खरीद किसान ऑनलाइन आवेदन प्रकिया तथा टोकन प्रिंट करने की प्रक्रिया की जानकारी आपको इस लेख में प्रदान की जाएगी। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ई-क्रय प्रणाली किसान पंजीकरण (ई उपार्जन) की शुरुआत की है। इस UP गेहूं खरीद पोर्टल पर पंजीकरण कराकर किसान भाई अपनी उपज को ऑनलाइन मोड में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे।

इस पोर्टल को खाद्य एवं रसद विभाग उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली के सहयोग से शुरू किया गया है। इस पोर्टल को  ई-उपार्जन का नाम दिया गया है जिसपर क्सियन भाई eproc.up.gov.in आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से पंजीकरण की प्रकिया को पूरा कर सकते हैं। किसान भाई इस पंजीकरण के बाद होनी रबी की फसल (गेहूं) को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकारी एजेंसियों को बेच सकते हैं। यहाँ इस लेख में हम आपको UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण की प्रकिया के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे।

Table of Contents

UP गेहूं खरीद ई-क्रय प्रणाली

देश में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा लॉक-डाउन की व्यवस्था की गयी है। इस लॉक-डाउन की अवधि को 3 मई तक के लोइये बढ़ा दिया गया है। ऐसे में रबी के सीजन को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 15 अप्रैल 2020 से ई-क्रय केन्द्रो पर UP गेहूं खरीद की प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है।

प्रदेश सरकार द्वारा गेहूं खरीद की प्रक्रिया को 15 मई तक के लिए खुला रखा गया है। राज्य के जो किसान भाई  अपनी फसल को बेचना चाहते है तो वह खाद्य एवं रसद विभाग की ई – क्रय प्रणाली की  ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर अपना पंजीकरण कर सकते है। यहाँ इस लेख में हम आपको ऑनलाइन पंजीकरण से सम्बंधित सभी जानकारियों का विवरण साझा करेंगे।

1 अप्रैल से एमएसपी पर शुरू होगी गेहूं की खरीद

यूपी सरकार ने कहा है की 1 अप्रैल से न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर गेहूं की खरीद कर दी जाएगी। सरकार के निर्देश अनुसार 15 जून तक किसानों से सीधे गेहूं खरीदेगी। यह खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य 1,975 रुपये प्रति क्विंटल गेहूं पर होगी। उत्तर प्रदेश के खाद्य आयुक्त मनीष चौहान ने कहा कि गेहूं का समर्थन मूल्य इस साल 1,975 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है। गेहूं की बिक्री के लिए, किसानों को खाद्य और रसद विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण करना आवश्यक है, जिसे लॉन्च किया गया है। किसान खुद को या साइबर कैफे और सार्वजनिक सुविधा केंद्रों के माध्यम से पंजीकृत कर सकते हैं।

फ्री राशन कार्ड एप्लीकेशन फॉर्म

Highlights of UP Gehu Kharid

नामUP गेहूं खरीद ई-क्रय प्रणाली
आरम्भ की गईप्रदेश सरकार द्वारा
लाभार्थीखेतिहर किसान
पंजीकरण की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यसमर्थन मूल्य पर उपज की खरीद
श्रेणीउत्तर प्रदेश सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटeproc.up.gov.in/

उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद किसान योजना का उद्देश्य

लॉक डाउन कि वजह से  देश के किसानो को अपनी फसल बेचने में असुविधा हो रही है और भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है ।यही कारण है की राज्य सरकार ने किसानों की सुविधा के लिए एक ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च किया है जिस पर उत्तर प्रदेश के किसान अपनी गेहू की फसल बेचने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते है। तांकि किसान समय से बेच कर पैसे प्राप्त करके अपना जीवन यापन आसानी से कर सकें। फसल बिक जाने पर उसके बदले में मिलने वाली धनराशि सीधे किसानों के बैंक अकॉउंट में पंहुचा दी जाएगी।

किसानो के लिए ऑनलाइन टोकन की व्यवस्था

उत्तर प्रदेश के खाद्य आयुक्त ने कहा कि किसानों की सुविधा के लिए इस साल ऑनलाइन टोकन की व्यवस्था हुई है, जिसके तहत किसान अपनी सुविधा के लिए क्रय केंद्र पर गेहूं की बिक्री के लिए टोकन ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि क्रय केंद्रों के रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन सेंटर के द्वारा जियो-टैगिंग हो रही है। इससे किसान क्रय केंद्र की स्थिति और पता ले सकेंगे।

किसानो के लिए नामिती की भी है व्यवस्था

चौहान ने कहा कि पारदर्शी खरीद के उद्देश्य से इस साल गेहूं की खरीद ‘इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ परचेज’ के द्वारा होगी। इसके तहत किसानों का अंगूठा लगाकर आधार प्रमाणीकरण कराकर खरीद की जाएगी। उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों की सुविधा की देखते हुए, इस साल नामांकित व्यक्तियों की भी व्यवस्था की गई है। अगर कोई किसान स्वयं क्रय केंद्र पर आने में असमर्थ होता है, तो वह अपने परिवार के किसी सदस्य को नामित कर सकता है। नामांकित सदस्य को पंजीकरण फॉर्म में उल्लेख कर देना है। इस नामित सदस्य का आधार प्रमाणीकरण भी होगा।

किसान कर सकेंगे अपील

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बताया गया कि यदि केंद्र प्रभारी के माध्यम से किसान के गेहूं को खारिज कर दिया जाता है, तो किसान तहसील स्तर पर काम करने वाले क्षेत्रीय विपणन अधिकारी की अध्यक्षता में गठित समिति के समक्ष अपील कर सकता है। उन्होंने बताया कि अगर गेहूं की मात्रा 100 क्विंटल से अधिक है, तो समेकन के तहत गांव और बटाईदारों का सत्यापन उप जिला मजिस्ट्रेट के माध्यम से किया जाएगा। अगर किसान सीलिंग अधिनियम के माध्यम से निर्धारित सीमा से अधिक भूमि पर गेहूं की उपज की बिक्री के लिए पंजीकरण करता है, तो जिला मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में गठित एक समिति इसे सत्यापित करेगी।

यूपी गेहूं खरीद अप्रैल 2021 से होगी आरंभ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने 29 जनवरी 2021 को, गेहूं खरीदने का निर्देश दिया। यह गेहूं की खरीद 1 अप्रैल 2021 से शुरू की जाएगी। गेहूं खरीद के तहत, किसानों को किसी भी क्रय केंद्र पर कोई समस्या नहीं होगी। भंडारण गोदामों और क्रय केंद्रों में गेहूं की सुरक्षा के लिए सभी इंतजाम होंगे। इस वर्ष गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 रूपए की वृद्धि की गई है। अब गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाकर 1975 रूपए प्रति क्विंटल कर दिया गया है। समय सारिणी और प्रस्तावित क्रय नीति के अधिकारियों के साथ गेहूं खरीद 2021-2022 के संबंध में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा एक बैठक आयोजित की गई थी।

इस बैठक में, मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जल्द ही गन्ना किसानों की तरह गेहूं किसानों को ऑनलाइन पर्ची सुविधा प्रदान की जाएगी। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जिन क्रय एजेंसियों के रिकॉर्ड अच्छे नहीं हैं, उन्हें काम नहीं दिया जाएगा। सभी क्रय केंद्रों और भंडारण गोदामों पर जियो टैगिंग की जाएगी, जिससे किसानों को फायदा होगा।

गेहूं खरीद में सुनिश्चित पारदर्शिता

प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद वीना कुमारी जी द्वारा प्रस्तावित खरीद नीति के संबंध में एक प्रस्तुति भी दी गई। इस प्रस्तुति में विभिन्न प्रकार के सुझाव मुख्यमंत्री द्वारा प्रस्तुत किए गए। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रकार के उपकरण जैसे नमी मापने के उपकरण, डबल मेश स्पिल, इलेक्ट्रॉनिक कांटा आदि को क्रय केंद्रों पर उपलब्ध कराया जाना चाहिए। इन सभी उपकरणों को 10 मार्च तक क्रय केंद्रों पर उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि इस वर्ष, ई-पॉप मशीनों के माध्यम से बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के माध्यम से गेहूं खरीदने की व्यवस्था की जाएगी। यह प्रणाली पारदर्शिता बनाएगी। इस वर्ष गेहूँ बटाईदारो से भी प्राप्त किया जाएगा।

क्रय केंद्रों पर पथ प्रदर्शक चिन्ह

मुख्यमंत्री द्वारा क्रय केंद्रों पर पथ प्रदर्शक संकेत देने और ग्राम पंचायतों में क्रय केंद्रों की सूची के साथ एक दीवार पेंटिंग बनाने के भी निर्देश दिए गए हैं, जिससे किसानों को सुविधा होगी। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को पूरी गेहूं खरीद प्रणाली में पारदर्शिता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया, तांकि किसी भी किसान को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना नहीं करना पड़े। किसानों को समय पर गेहूं का भुगतान किया जाएगा और यह पूरी प्रक्रिया अधिकारियों द्वारा सरल तरीके से आयोजित की जाएगी। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अप्रैल-मई के दौरान छाजन केंद्रों पर पेयजल की व्यवस्था होना अनिवार्य है।

ई-क्रय उपार्जन (खरीद) प्रणाली की विशेषताएं

  • ई-क्रय प्रणाली की शुरुआत से किसान भाई लॉक-डाउन की स्थिति में ऑनलाइन मोड़ में अपनी फसलों को बेच सकेंगे।
  • इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के उन किसानो को प्रदान किया जायेगा जो अपनी गेहू की फसल को बेचना चाहते है ।
  • किसान भाइयो को मंडियों उसी तिथि को पहुंचना है जिस तारीख को टोकन में बताया गया है।
  • मंडियों में अपनी उपज को ले जाने पहले किसानो को मोबाइल नंबर पर टोकन दिया जायेगा। किसानों को यूपी ई-उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा कर टोकन जिससे किसान अपनी बारी पर ही मंडियों में जायेंगे।
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने इस वर्ष के लिए प्रदेशभर में गेहूं की खरीद हेतु 5500 खरीद केंद्र बनाए गए हैं। इस केन्द्रो पर 1925 रुपये / क्विंटल के न्यूनतम समर्थन (MSP) तथा  55 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद का टारगेट रखा गया है

UP गेहूं खरीद पंजीकरण हेतु आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • वोटर आईडी कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • भूमि के राजस्व अभिलेख
  • खसरा – खतौनी, खसरा संख्या और जमीन का रकबा एवं गेहूं का रकबा आदि की जानकारी

ई-क्रय प्रणाली किसान पंजीकरण 2021 की जरूरी बातें

  • किसान को पंजीकरण के समय में गेहूं के खेत का विवरण देना जरूरी है।
  • खेत के विवरण में खतौनी/खसरा संख्या, गेहूं का रकबा भरना आवश्यक है।
  • आवेदक को आधार कार्ड, बैंक पास बुक व राजस्व अभिलेखों का सही विवरण दर्ज करना होगा ।
  • सभी किसान भाई रजिस्ट्रेशन होने के बाद रजिस्ट्रेशन नंबर और उसका प्रिंट जरूर ले लें।
  • आवेदक किसान द्वारा मोबाइल नंबर देकर रजिस्ट्रेशन ड्राफ्ट फिर से प्रिंट किया जा सकता है।
  • इसके साथ ही मोबाइल नंबर देकर रजिस्ट्रेशन में संशोधन किया जा सकता है।
  • जब तक आवेदन लॉक नहीं किया जाता है, रजिस्ट्रेशन स्वीकार नहीं किया जायेगा।
  • मोबाइल नंबर पर रजिस्ट्रेशन की पूरी जानकारी भेजी जाएगी।
  • 100 क्विंटल से अधिक गेहूं की बिक्री के लिए एसडीएम से सत्यापन कराया जायेगा।
  • गेहूं बेचने के बाद केन्द्र प्रभारी से पावती पत्र अवश्य प्राप्त कर ले।

UP गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण 2021कैसे करे

राज्य एक जो भी किसान भी ई-क्रय प्रणाली के द्वारा ऑनलाइन मोड में अपनी फसलों को बेचना के लिए पोर्टल पर पंजीकरण कराना चाहते हैं, उन्हें नीचे दिए गए आसान से चरणों का पालन करना होगा।

  • सबसे पहले सभी आवेदक किसानो को खाद्य एवं रसद विभाग, उ० प्र० ई-क्रय प्रणाली की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। ई-क्रय प्रणाली आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल जायेगा।
UP गेहूं खरीद
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको “गेहू खरीद हेतु किसान पंजीकरण” के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा
  • इस पेज पर आपको 7 स्टेप दिखाई देंगे। यहाँ आपको सबसे पहले पंजीकरण प्रपत्र पर क्लिक कर देना है।
उत्तर प्रदेश गेहूँ खरीद
  • आपके सामने एक पंजीकरण पेज खुल जायेगा। यह आपको अपना मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड भरकर “आगे बढे” बटन पर क्लिक कर देना है।
  • इसके बाद आपकी कंप्यूटर और मोबाइल स्क्रीन पर रबी फसल (गेहूं खरीद) के लिए किसान ऑनलाइन पंजीकरण प्रपत्र / फॉर्म खुल जायेगा।
UP गेहूं खरीद किसान पंजीकरण
  • किसान ऑनलाइन पंजीकरण प्रपत्र / फॉर्म में आपको अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, पिता, पति का नाम, तहसील, जनपद आदि जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आप अपने द्वारा दर्ज जानकारी की जाँच करके “सबमिट करे” बटन पर क्लिक कर दे।

धान खरीद हेतु किसान पंजीकरण कैसे करे?

धान खरीद हेतु किसान पंजीकरण के ऑनलाइन  पंजीकरण के लिए आप नीचे दिए गए चरणों को फॉलो कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आपको खाद्य एवं रसद विभाग, उ० प्र० ई-क्रय प्रणाली की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल जायेगा।
UP गेहूं खरीद
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको मेन्यू में “गेहू खरीद हेतु किसान पंजीकर” के विकल्प पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।
  • इस पृष्ठ पर, आप एक-एक करके छह चरणों की जाँच कर सकते हैं।
  • अब आपको अपना मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड दर्ज करना होगा और अंत में आगे बढे हुए बटन को दबाना होगा।
  • उसके बाद, एक धान फसल  के लिए, किसान ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म खुल जाएगा
  • नाम, पता, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, पिता, पति का नाम, तहसील, जनपद आदि जैसे आवश्यक विवरणों के साथ फॉर्म भरें
  • फॉर्म, पूरी तरह से भरने के बाद, रजिस्टर बटन दबाएं

मक्का खरीद हेतु किसान पंजीकरण कैसे करे?

मक्का खरीद हेतु किसान पंजीकरण के ऑनलाइन  पंजीकरण के लिए आप नीचे दिए गए चरणों को फॉलो कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आपको खाद्य एवं रसद विभाग, उ० प्र० ई-क्रय प्रणाली की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होमपेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होमपेज पर आपको मेन्यू में “मक्का खरीद हेतु किसान पंजीकरण ” के विकल्प पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर आपको छह स्टेप दिखाई देंगे। सबसे पहले आप पंजीकरण प्रपत्र के विकल्प पर क्लिक करें। एक पंजीकरण पेज आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर खुल जायेगा। 
  • इस पेज में दिए गए कॉलम में अपना मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड भरें और “आगे बढे” का बटन दबाएं।
  • आगे बढ़े  दबाने पर आपकी स्क्रीन पर मक्का फसल (मक्का खरीद) के लिए किसान ऑनलाइन पंजीकरण प्रपत्र / फॉर्म खुल जायेगा।
  • अब आप  ऑनलाइन पंजीकरण के लिए इस प्रपत्र / फॉर्म में अपनी जानकारी जैसे  नाम, पता, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, पिता, पति का नाम, तहसील, जनपद आदि जानकारी भर सकते है ।
  • सभी जानकारी भरने के बाद एक बार फिर से दर्ज जानकारी की जाँच करें और “सबमिट करे” का बटन दबाकर पंजकिरण प्रक्रिया पूरी करें ।

पंजीकरण संसोधन / ड्राफ्ट

  • अगर किसी किसान भाई द्वारा ई-क्रय प्रणाली के तहत पंजीकरण के दौरान किसी प्रकार की त्रुटि हो गयी है तब वह पंजीकरण फॉर्म में संशोधन करा सकता है।
  • इसके लिए आपको स्टेप – 4, पंजीकरण संशोधन के विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक पंजीकरण फॉर्म का पेज खुल जायेगा।
UP गेहूं खरीद ऑनलाइन
  • आपको पंजीकरण फॉर्म में सुधार करके “सुरक्षित करे” बटन पर क्लिक कर देना है।

किसान पंजीकरण प्रारूप

  • किसान भाई ई-क्रय प्रणाली (ई उपार्जन) के ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म भरने से पहले आवेदन पत्र का प्रारूप भी देख सकते है।
  • पंजीकरण के प्रारूप के माध्यम से आपको फॉर्म में जानकारियों को दर्ज करने में किसी भी प्रकार की मुश्किल का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • आप नीचे दिए गए डायरेक्ट लिंक पर क्लिक करके पंजीकरण प्रारूप की पीडीएफ कॉपी को डाउनलोड कर सकते हैं। 

डायरेक्ट लिंक: – UP गेहूँ खरीद किसान पंजीकरण प्रपत्र प्रारूप

पंजीकरण फॉर्म प्रिंटआउट

  • वह सभी किसान भाई जिन्हें ऑनलाइन मोड में ई-क्रय प्रणाली (ई उपार्जन) के तहत पंजीकरण फॉर्म को भरा है वह फॉर्म का प्रिंट भी निकाल सकते हैं।
  • इसके लिए आपको स्टेप – 6 पंजीकरण प्रिंट के विकल्प पर क्लिक कर देना है, जिसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।
किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट
  • इस पेज पर आपको किसान पंजीकरण संख्या, मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड दर्ज करके “आगे बढे” बटन पर क्लिक कर देना है।
  • अब पूर्ण रूप से भरा हुआ पंजीकरण फॉर्म आपकी स्क्रीन पर खुल जाएगा जिसको आप प्रिंट या सेव कर सकते हैं|

लॉक के उपरांत टोकन बनाये

  • UP गेहूं खरीद ई-क्रय प्रणाली के द्वारा रबी फसल (गेहूं खरीद) के लिए ऑनलाइन मोड में पंजीकरण कराने के बाद आपको अपनी फसल को मंडी में बेचने जाने के लिए टोकन की आवश्यकता होगी।
  • इसके लिए आपको स्टेप – 7 लॉक के उपरांत टोकन बनाये विकल्प पर क्लिक कर देना है। आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा। यहाँ आपको किसान पंजीयन आईडी, मोबाइल नंबर और कॅप्टचा कोड भरकर “आगे बढे” के बटन पर क्लिक कर देना है।
UP गेहूं खरीद 2020
  • आपके सामने स्क्री पर फसल (गेहूं खरीद) हेतु ऑनलाइन टोकन का पेज खुल जायेगा। किसान इसे प्रिंट कर सकते हैं। इसके एक प्रति किसान को मोबाइल नंबर पर भी प्राप्त होगी, जिसमें उपज को मंडी लेकर जाने का दिन और समय दोनों अंकित होंगे।

यह भी पढ़े – UP गन्ना पर्ची कैलेंडर कैसे देखे | Ganna Parchi Calendar 2019-2020 @caneup.in

हम उम्मीद करते हैं की आपको UP गेहूं खरीद किसान पंजीकरण से सम्बंधित जानकारी जरूर लाभदायक लगी होंगी। इस लेख में हमने आपके द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालो के जवाब देने की कोशिश की है।

यदि अभी भी आपके पास इस योजना से सम्बंधित सवाल है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। इसके साथ ही आप हमारी वेबसाइट को बुकमार्क भी कर सकते हैं।

Leave a Comment